Wednesday, June 17, 2009

जिंदगी!!!!!!!!!!!!!!!

tarap tarap kar tarapi jindgi
rula rula kar hansti jindgi
hans hans kar rulati jindgi
soch soch kar thakti jindgi
ye badguman jindgi
ye hassin jindgi
ye gamgin jindgi
ye khushgwar jindgi ......
ye jindgi,wo jindgi
aakhir kya hai y jindgi..
akhir kya hai y jindgi
ye meri jindgi
ye teri jindgi
ye iski jindgi
ye uski jindgi
ye hamari jindgi
ye tumhaari jindgi
ye sab kutch sochti jindgi
ye kutch bhi na sochti jindgi
akhir kaisi hoti hai y jindgi
aakhir kyo hoti hai zindgi!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

.
.
.
.
.
.
.
.
.
. dil pe mat lo yaar........... akhir mai itna k mere pass hai meri jindgi.n i love my jindgi

4 comments:

નીતા કોટેચા said...

wahhhhhhhhhhhh
kya bat hai ji...
jindgi se mahobbat karni sikha di yar...

raj said...

neelima...yahi hai zindgee....ese parbhashit karna is a tough job....nice poem...

Neelima said...

कभी कभी
जिंदगी कैसी तो टूट-फूट जाती है,
न जुड़ सकती है न मरम्मत हो सकती है,
बस बच्चों के किसी खिलोने की तरह -
चाभी कहीं, पहिया कहीं,
और इस टूटी फूटी जिंदगी का
न कोई मरकज़, न कोई धुरी

और कभी-कभी
कैसे तो ज़ख्म रिसते रहते हैं
रूह के हर पोर से;
और कैसा तो कभी बेशुमार दर्द भर जाता है !
इतना दर्द, इतना दर्द
जैसे पूरा वजूद ही दर्द बन जाए
इतना दर्द, इतना दर्द कि
दर्द की पोटली न बन्ध पाए
न ढोई जा पाए;
और कभी कभी
हम कैसे तो अलग - अलग
अपने अपने सय्यारों पर रहने लगते हैं
बिलकुल अजनबी
कोई किसी को नहीं समझता , पढ़ता -
जो परदेसी वो भी नहीं
जो अपने, बिलकुल अपने
वो भी नहीं

NEELIMA said...

THNX